Category: Fashion

सितंबर 2022 में जर्मनी का निर्यात अनुमान -6.0 अंक तक गिर गया: इफो

इफो इंस्टीट्यूट फॉर इकोनॉमिक रिसर्च के अनुसार, सितंबर 2022 में जर्मनी के निर्यात उद्योग का अनुमान माइनस 6.0 अंक तक गिर गया है, जो अगस्त 2022 में माइनस 2.8 अंक…

सर्कुलर टेक्सटाइल सेक्टर की सहायता के लिए EURATEX और भागीदारों ने CISUTAC लॉन्च किया

EURATEX (यूरोपीय परिधान और वस्त्र परिसंघ) सहित 27 भागीदारों के एक संघ ने एक परिपत्र और टिकाऊ कपड़ा क्षेत्र और अर्थव्यवस्था में संक्रमण का समर्थन करने के लिए नई क्षितिज…

शिनजियांग के सामानों पर अमेरिकी प्रतिबंध के बाद चीनी सूती धागे का भारतीय आयात बढ़ा

चीन से सिलाई के धागे (एचएस कोड 525) के अलावा भारत के सूती धागे के आयात में हाल ही में कई गुना उछाल देखा गया है। घरेलू बाजार में आयात…

हनोईफैब्रिक 2022 वियतनाम में 23-25 ​​नवंबर तक आयोजित होगा

वियतनाम हनोई फैब्रिक एंड गारमेंट एक्सेसरीज एक्सपो 2022 में 80 प्रतिशत से अधिक जगह पहले ही बिक चुकी है। हनोईफैब्रिक 2022 23-25 ​​नवंबर, 2022 तक आईसीई, हनोई, वियतनाम में आयोजित…

जर्मन आर्थिक भावना ‘काफी खराब’: इफो संस्थान

म्यूनिख स्थित इफो इंस्टीट्यूट फॉर इकोनॉमिक रिसर्च के अनुसार, जर्मन आर्थिक भावना काफी खराब हो गई है, जिसका व्यापार जलवायु सूचकांक सितंबर में गिरकर 84.3 अंक पर आ गया, जो…

वियतनाम एच1 2022 में अमेरिका को 50% परिधान निर्यात करता है; $17 बिलियन पर कुल शिपमेंट

वियतनाम ने इस वर्ष की पहली छमाही (H1) में 17.875 बिलियन डॉलर के कुल निर्यात में से अपने 50 प्रतिशत से अधिक वस्त्र अमेरिका को निर्यात किए। निर्यात आंकड़ों के…

वैश्विक आर्थिक विकास 2022 में 3%, 2023 में 2.2% तक धीमा हो सकता है: OECD

आर्थिक सहयोग और विकास संगठन (ओईसीडी) के अनुसार, वैश्विक आर्थिक विकास 2022 में मामूली 3 प्रतिशत होने का अनुमान है, जो 2023 में केवल 2.2 प्रतिशत तक धीमा हो गया…

भारतीय बाजार में साड़ी खंड 8.06% की दर से बढ़ेगा

साड़ी भारतीय परिधान बाजार में सबसे प्रमुख उत्पाद है। बाजार के आंकड़ों के विश्लेषण के अनुसार, 2018-2023 की अवधि के दौरान साड़ी की वार्षिक बाजार वृद्धि 8.06 प्रतिशत सालाना होने…

मौजूदा कीमतों पर इटली की जीडीपी 2021 में 7.3% बढ़कर €1782.05 बिलियन हो गई

इटालियन नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ स्टैटिस्टिक्स (इस्टेट) के अनुसार, मौजूदा कीमतों पर इटली का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) 2021 में 7.3 प्रतिशत बढ़कर पिछले वर्ष की तुलना में € 1,782.05 बिलियन…

‘मेक इन इंडिया’ ने पूरे किए 8 साल, सालाना FDI दोगुना होकर 83 अरब डॉलर हुआ

प्रमुख सरकारी कार्यक्रम ‘मेक इन इंडिया’ के आठ साल पूरे होने पर, देश में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) का प्रवाह वित्त वर्ष 2021-22 में बढ़कर 83.6 बिलियन डॉलर हो गया,…